Type Here to Get Search Results !

आगरा के थाने में 25 लाख की चोरी होने के वारदात सामने आयी हैं पुलिस वाले सोते रहे , टूट गए मालखाने के ताले चोरी करके हो गए फरार |

 आगरा के थाना जगदीशपुरा के मालखाने में हुआ चोरी  दरवाजे और बक्से के ताले तोड़कर 25 लाख रुपये की चोरी कर ली गई, लेकिन पुलिस वाले सोते रहे। रविवार सुबह हेड मोहर्रिर के आने पर तैनात पुलिसकर्मियों को इसकी जानकारी हुई। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि चोर ने पहले मालखाना के पिछले के गेट के पास लगी खिड़की खोलने का प्रयास किया, लेकिन सफलता नहीं मिली। इसके बाद दरवाजे का ताला तोड़कर अंदर प्रवेश कर गया। बक्से के ताले तोड़कर कैश चोरी कर लिया। वारदात होने के बाद कई सवाल खड़े कर दिये हैं।


जगदीशपुरा थाने के दो गेट हैं। एक गेट बोदला-लोहामंडी मार्ग पर है। यह गेट बंद रहता है। आसपास दुकानें बनी हैं। गेट के अंदर थाना परिसर में सीज वाहन खड़े हैं। थाना का भवन 25-30 मीटर अंदर है। यहां पर ही मालखाना है। यहां पर खिड़की और दरवाजा है। दूसरा गेट रोडवेज कॉलोनी की ओर जाने वाले रास्ते पर है। इससे ही पुलिसकर्मियों और लोगों का प्रवेश होता है। सामने गेट की ओर जाने पर कार्यालय के गेट पर सीसीटीवी कैमरा लगा है।

मालखाने के पास में एक कार्यालय है, जबकि सामने थाने बनी हुए है। सूत्रों के मुताबिक, थाने के बाहर जाली लगे स्थान पर तीन लोगो को रखा गया था। मालखाने में घुसे चोर ने पिछले गेट की खिड़की और दरवाजे के ताले तोड़ कर अंदर की ओर गया हैं। इसके बाद बक्से के ताले को तोड़ा। इस दौरान आवाज भी हुई होगी। मगर, किसी पुलिसकर्मी को आवाज सुनाई नहीं दी। इससे आशंका यही है कि पुलिसकर्मी ड्यूटी परिसर में सो रहे होंगे।

चोर मालखाने में पिछले दरवाजे से दाखिल हुआ। इस गेट से बोदला रोड की तरफ जाया जा सकता है। झाड़ियां भी हैं। इसके अलावा उस बक्से को ही खोला, जिसमें कैश रखा हुआ था। मालखाने में और भी कीमती जेवरात के साथ असलाह, कारतूस और दस्तावेज रखे रहते हैं। इनको चोर ने छुआ तक नहीं। इससे आशंका है कि चोरी करने वाला जानकार है। पहले से चोरी कर रखी थीं। चोरो को पहले से वहा के बारे में पता था कि रेलवे ठेकेदार के घर में चोरी का खुलासा हुआ है। यहां 25 लाख रुपये कैश रखा है।

कर्मचारी की मिलीभगत हो सकती हैं | 

मालखाने में क्या रखा है और कहा किस जगह में सामान रखा होता हैं और किस जगह में रहता हैं, यह सिर्फ पुलिसकर्मियों को ही पता होता है। इसके अलावा मालखाने में कोई और नहीं आ और जा सकता है। जो लोग अपने सामान को छुड़ाने आते हैं, वह भी आते हैं। आशंका यह भी जताई जा रही है कि चोरी में किसी कर्मचारी का हाथ भी हो सकता है। एसएसपी मुनिराज जी. का कहना है कि विवेचना की जा रही है। अगर, कर्मचारी मिलजुले होगे या उनका साथ दिया तो सक्त से सक्त कार्रवाई की जाएगी।


सवाल उठ रहे हैं 
बोदला रोड पर बने थाने के सामने गेट के आसपास दुकाने हैं। अंदर की ओर पुराने वाहन खड़े हैं। तीन फुट की दीवार है। आसानी से कोई भी अंदर जा सकता है। सुरक्षा के इंतजाम क्यों नहीं हैं 
थाना परिसर में सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। मालखाने में सीसीटीवी क्यूँ नहीं हैं। थानों के मालखानों में सीसीटीवी कैमरे लगे होने चाहिए। क्या थाना परिसर के कैमरे चल रहे थे, थाना परिसर में रात के समय कौन-कौन आया।
चोरी करने वाला थाने में आने वाला ही हो सकता है, क्योंकि मालखाने में कैश आने की जानकारी किसी जानकार को ही होगी। थाना में अक्सर कौन आता है।
जिस समय वारदात हुई, उस समय पुलिसकर्मी क्या कर रहे थे, थाना कार्यालय में ड्यूटी पर पुलिसकर्मियों के अलावा एक गार्ड भी गेट के पास ड्यूटी करता हैं  वो लोग सोये हुआ थे या गप्पा लड़ा रहे थे या वहाँ थे ही नहीं। 


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Below Post Ad