Type Here to Get Search Results !

राकेश टिकैत ने अगर सिंधु बॉर्डर में युवक को मार कर उनके बॉडी को घटना स्थल में टाँगे जाने का मामला सामने आये हैं भाजपा के किसान मोर्च नेता का घेराव किया |

 किसान मोर्चा के नाम पर हत्या की जा रही हैं | 

अमित मालवीय ने कहा, 'बलात्कार, हत्या, वेश्यावृत्ति, हिंसा और अराजकता किसान आंदोलन के नाम पर यह सब हुआ है।अब हरियाणा के कुंडली बॉर्डर पर युवक की बर्बर हत्या। आखिर हो क्या रहा है? किसान आंदोलन के नाम पर यह अराजकता करने वाले ये लोग कौन हैं जो किसानों को बदनाम कर रहे हैं?' इस बीच मामले की जांच करने पहुंची पुलिस ने कहा है कि फिलहाल हत्यारों के बारे में कुछ भी नहीं कहा जा सकता है। जांच के लिए पहुंचे सोनीपत के डीएसपी हंसराज ने कहा, 'सुबह 5 बजे के करीब एक शव लटका हुआ पाया गया था। उसके हाथ और पैर कटे हुए थे। यह शव उसी जगह पर मिला है, जहां किसानों का आंदोलन चल रहा है। फिलहाल इस घटने की जानकारी नहीं प्राप्त हुऐ है कि इस हत्या का जिम्मेदार कौन है।'


इस मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया जा रहा है। इस घटना को लेकर एक वीडियो भी वायरल हो रहा है, जिसकी जांच की जा रही है। बता दें कि लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के दौरान भाजपा के 3 कार्यकर्ताओं की भी मौत हो गई थी। इसे लेकर राकेश टिकैत ने कहा था कि यह क्रिया की प्रतिक्रिया के चलते हुआ था। अमित मालवीय ने उनके इस बयान को ही अब कुंडली में युवक की हत्या के बाद शव टांगे जाने की घटना से जोड़ते हुए निशाना साधा है। संयुक्त किसान मोर्चा के एक नेता ने इस हत्या के पीछे सिख निहंगों का हाथ बताया है।
संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) के नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने आरोप लगाया कि शुक्रवार सुबह दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर एक बैरिकेड से लटके हुए व्यक्ति की हत्या के पीछे निहंग सिखों का हाथ था। बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा, "घटना के पीछे निहंग हैं। उन्होंने इसे स्वीकार कर लिया है।  निहंग  सिख शुरू से ही हमारे लिए परेशानी पैदा कर रहे हैं।" पुलिस ने कहा कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है कि घटना के लिए कौन जिम्मेदार हैं | 
समाचार एजेंसी एएनआई ने डीएसपी हंसराज के हवाले से कहा, "जिम्मेदार कौन है, इसकी कोई जानकारी नहीं है। एक अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। एक वायरल वीडियो पर जांच हो रही है, अफवाहें चलती रहेंगी।"
एसकेएम ने घटना के लिए सिख निहंगों को जिम्मेदार ठहराया। 'निहंग', जिन्हें अमर भी कहा जाता है, सशस्त्र सिख योद्धा हैं जिन्हें गुरु गोबिंद सिंह जी के पुत्र साहिबजादा फतेह सिंह जी के वंशज माना जाता है। शुक्रवार सुबह प्रदर्शन कर रहे किसानों के मुख्य मंच के पास एक व्यक्ति का शव मिला। उसका हाथ काट दिया गया और किसानों के विरोध स्थल पर एक बैरिकेड्स से लटका दिया गया।
सिंघू बॉर्डर पर मारे गए शख्स की पहचान लखबीर सिंह के रूप में हुई है. पुलिस सूत्रों ने कहा कि लखबीर सिंह को हरनाम सिंह ने 6 साल की उम्र में गोद लिया था। उन्होंने बताया कि लखबीर सिंह मजदूरी का काम करता था और पंजाब के तरनतारन के गांव चीमा खुर्द का रहने वाला हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Below Post Ad