Type Here to Get Search Results !

Deepika Chikhalia: आखिर क्यु बनना पड़ा रामायण की सीता को आतंगवादी की पत्नी, रुंधे आवाज़ से बताया रामानंद सागर की ‘सीता’ ने

'फिल्म ‘कश्मीर फाइल्स’ की चर्चा खत्म भी नहीं हुई देश भर मे कि कश्मीर की घटना पर आधारित एक और फिल्म ‘गालिब’ सिनेमाघरों में जल्द ही रिलीज होने को है।













जानकारी के मुताबिक यह फिल्म आतंकवादी अफजल गुरु और उसके आस पास उपजे घटनाक्रम पर से प्रेरित हैं। गौरतलब ये है कि इसमें मशहूर धारावाहिक ‘रामायण’ में सीता का किरदार करने वाली अभिनेत्री दीपिका चिखलिया आतंकवादी अफजल गुरु की बीवी के किरदार में नज़र आएंगी। अफजल गुरु वही पाकिस्तानी आतंकी है जिसे संसद हमले का मुख्य दोषी पाया गया। और, उसे फांसी की सजा भी हुई।







‘मजबूरी में बनी आतंकी की मां’

दीपिका चिखलिया ने अरसा पहले अपनी इस फिल्म का जिक्र किया था। तब करार में बंधे होन के कारण वह फिल्म में अपने किरदार के बारे में ज्यादा कुछ बता भी नहीं रही थीं। लेकिन, बहुत कुरेदन पर दीपिका बोलीं, ‘मेरा पहला प्यार अभिनय है। मैं अब भी कैमरे के सामने काम करना चाहती हूं लेकिन मैं अपना प्रचार खुद कर पाने में सक्षम नहीं हूं। ऐसे में ये फिल्म मेरे पास आई और मैंने इसे स्वीकार कर लिया। मेरा भरोसा है कि इसमें काम देखकर और लोग भी मुझसे संपर्क करेंगे।’ ये बात कहते हुए दीपिका को अपने आत्मसम्मान का बोध भी बार बार होता रहा है और इस दौरान उनका गला भी भर आया।








‘नहीं चाहती आतंकी की मां बनना’

धारावाहिक ‘रामायण’ में सीता की भूमिका निभाकर चर्चित हुईं दीपिका चिखलिया एक आतंकवादी की पत्नी की भूमिका निभाना नहीं चाह रही थी क्योंकि उन्हें अपनी सीता वाली इमेज की चिंता थी। लेकिन, जब फिल्म की टीम ने उन्हें फिल्म की पटकथा सुनाई तो वह भावुक हो गई। दरअसल फिल्म में अफजल गुरु को बहुत सांकेतिक रूप में दिखाया गया है। दरअसल, यह फिल्म मां, बेटे के मजबूत रिश्तों पर आधारित है। फिल्म की कहानी ये है कि इसका नायक गालिब बंदूक और कलम में से किसे चुने, ये फैसला उसे करना है।

‘बाला’ में भी निभा चुकीं मां की भूमिका

आयुष्मान खुराना की फिल्म ‘बाला’ में दीपिका चिखलिया ने फिल्म के मुख्य किरदार की मां की भूमिका निभाई थी। इस फिल्म में उनके किरदार को काफी सराहा भी गया। ‘बाला’ फिल्म के बाद उनको इसी तरह के काफी किरदारों के प्रस्ताव मिलते रहे। दीपिका के पास अब भी ढेर सारे प्रस्ताव आते रहते हैं और वह कहानियां भी सुनती रही हैं। लेकिन ‘अमर उजाला’ से बात करते हुए वह बताती हैं, ‘फिल्में मुझे पैसे कमाने के लिए नहीं करनी। ईश्वर कृपा से मेरा भरा पूरा और सुखमयी संसार है। अभिनय मेरा शौक ही था और रहेगा।

पहले भी निभा चुकीं मुस्लिम किरदार 

ऐसा नहीं है कि दीपिका चिखलिया फिल्म ‘गालिब’ में ही पहली बार मुस्लिम महिला का किरदार निभा रही हैं। इससे पहले वह निर्माता, निर्देशक और अभिनेता संजय खान के धारावाहिक 'द स्वोर्ड ऑफ़ टीपू सुल्तान’ में मुस्लिम महिला का किरदार निभा चुकी हैं। इस धारावाहिक में वह टीपू सुल्तान की मां फातिमा फखरुन्निसां के किरदार में नज़र आई थीं। तब दीपिका की उम्र धारावाहिक में अपने बेटे बने संजय खान से 24 साल कम थी।

क्या है ‘गालिब’ की कहानी?

फिल्म ‘गालिब’ एक ऐसे लड़के की कहानी हैं जिसके पिता को आतंकवादी होने के कारण फांसी दे दी जाती है। इसके बाद इस बच्चे को एक कठिन परिस्थितियों में अपना रास्ता तलाशना होता है। जब अफजल गुरु का बेटा गालिब दसवीं में कश्मीर में अच्छे से नंबरों से पास होता हैं और उसकी हर जगह तारीफ होती हैं। यही से गालिब का नया जन्म भी होता है।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Below Post Ad