Type Here to Get Search Results !

First glimpse of Chandrayaan-3: 'मिशन मून' की तैयारी

First glimpse of Chandrayaan-3: 'मिशन मून' की तैयारी

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन की ओर से जारी एक डॉक्यूमेंट्री 'स्पेस ऑन व्हील्स' में इन तस्वीरों को जारी किया गया है। इसमें भारत द्वारा लांच किए गए 75 उपग्रहों को भी दिखाया गया है।




130 करोड़ भारतीयों की उम्मीदों को चांद पर पहुंचाने के लिए चंद्रयान-3 फिर से तैयार हो रहा है। इसरो ने पहली बार इस मिशन की तस्वीरें जारी की हैं। सब कुछ सही रहा तो यह मिशन इसी साल अगस्त में लांच हो सकता है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन की ओर से जारी एक डॉक्यूमेंट्री 'स्पेस ऑन व्हील्स' में इन तस्वीरों को जारी किया गया है। 



इसरो ने इस डॉक्यूमेंट्री को अपनी वेबसाइट पर अपलोड किया गया है। इसमें आजादी के अमृत महोत्सव के तहत भारत द्वारा लांच किए गए 75 उपग्रहों को भी दिखाया गया है। 


क्या है डॉक्यूमेंट्री में 


इसरो की ओर से जारी की गई डॉक्यूमेंट्री में, चंद्रयान-3 के लैंडर को दिखाया गया है। यह भारतीय अंतरिक्ष मिशन की चांद पर उतरने की दूसरी कोशिश है। इसके अलावा 17 मिनट की डॉक्यूमेंट्री में आदित्य एल 1 मिशन और गगनयान के बारे में भी बताया गया है।

चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर का होगा उपयोग


हाल ही में इसरो पूर्व प्रमुख डॉ. सिवान ने कहा था कि जल्द ही इसरो चंद्रयान-3 की लॉन्चिंग की भी पुष्टि करने की स्थिति में आ जाएगा। मैं आश्वस्त हूं कि इस बार के मिशन में हमें सफलता जरूर मिलेगी। इस महत्वाकांक्षी मिशन के लिए चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर का उपयोग किया जाएगा, यह हमारे लिए काफी किफायती होगा। इसरो के पूर्व चेयरमैन ने कहा था कि कोरोना वायरस महामारी का असर हमारी सभी परियोजनाओं पर पड़ा था। 

चंद्रयान -2 नहीं हो पाया था सफल


चंद्रयान -3 को पिछले चंद्रयान -2 मिशन के करीब दो सालों बाद लांच किया जा रहा है। इस मिशन को पूरी तरह सफलता नहीं मिल पाई थी। यान का लैंडर और रोवर अपने गंतव्य से दूरी पर क्रैश हो गया था। हालांकि, इस यान का ऑर्बिटर अब भी चंद्रमा की सतह के ऊपर मौजूद है। इसरो के द्वारा इसे भी चंद्रयान -3 मिशन में प्रयोग में लाया जाएगा। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Below Post Ad