Type Here to Get Search Results !

Best Yoga Tips: शारीरिक-मानसिक दोनों तरह की सेहत के लिए कारगर हैं ये योगासन

Best Yoga Tips: शारीरिक-मानसिक दोनों तरह की सेहत के लिए कारगर हैं ये योगासन

शरीर के संपूर्ण स्वास्थ्य का जिक्र आने का मतलब शारीरिक-मानसिक दोनों ही तरह की सेहत पर ध्यान रखने से  होता है। इनमें से एक में भी होने वाली समस्या का असर दूसरे स्वास्थ्य पर पड़ सकता है। हम अक्सर अपने मन और शरीर को अलग-अलग समझते हैं, लेकिन असल में हमारा मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य आपस में जुड़ा हुआ है। 







यही कारण है कि स्वास्थ्य विशेषज्ञ इन दोनों को ठीक रखने पर जोर देते हैं। नियमित रूप से योगासनों के अभ्यास की आदत आपके लिए काफी मददगार हो सकती है। योगासन, शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के सोथ मन को शांत रखने और चिंता-तनाव जैसी समस्याओं के जोखिम को कम करने में सहायक माने जाते हैं।

योग विशेषज्ञों के मुताबिक दिनचर्या में योगासनों को शामिल करके शरीरिक और मानसिक दोनों तरह की समस्याओं के जोखिम को कम किया जा सकता है। अध्ययनों से पता चलता है कि मानसिक स्वास्थ्य की समस्याओं से परेशान  लोगों में हृदय रोग और डायबिटीज जैसी शारीरिक स्वास्थ्य दिक्कतों का खतरा अधिक होता है। आइए जानते हैं कि रोजाना किन अभ्यास को करके इन दोनों स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने में मदद मिल सकती है?

प्राणायाम को बनाएं जीवनशैली का हिस्सा

नियमित रूप से प्राणायाम के अभ्यास की आदत आपके संपूर्ण स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने में मदद कर सकती है। साल 2013 के एक अध्ययन से पता चलता है कि प्राणायाम का नियमित अभ्यास करने वाले लोगों में तनाव का स्तर कम पाया गया। शोधकर्ताओं के मुताबिक प्राणायाम, तंत्रिका तंत्र को शांत करता है जिससे आपकी तनाव प्रतिक्रिया में सुधार होता है। तनाव का स्तर कम रहने से हृदय रोगों के विकास का खतरा भी कम हो जाता है।

वृक्षासन योग

वृक्षासन योग या ट्री पोज़ कई तरह की शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की समस्याओं से राहत दिलाने में काफी कारगर अभ्यास हो सकता है। ट्री पोज़ आपके पैरों के जोड़ और टेंडन को मजबूत करने  के साथ शारीरिक संतुलन में सुधार करता है। कमर, जांघों, कूल्हों के अतिरिक्त तनाव को कम करने के साथ मन को शांत रखने और एकाग्रता को बढ़ावा देने के लिए विशेषज्ञ इस योग के रोजाना अभ्यास की सलाह देते हैं।

भुजंगासन योग का अभ्यास

शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की समस्याओं को दूर करने में भुजंगासन योग के अभ्यास को भी विशेष लाभकारी माना जाता है। भुजंगासन योग या कोबरा पोज रीढ़ को मजबूत करने के साथ छाती और फेफड़ों को फैलाता है। इसके अलावा जिन लोगों को अक्सर तनाव और थकान की समस्या बनी रहती है उनके लिए भी इसके रोजाना अभ्यास को काफी फायदेमंद माना जाता है। साइटिका और अस्थमा की समस्याओं को ठीक करने के लिए भी नियमित रूप से इस योग का अभ्यास करना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Below Post Ad