Type Here to Get Search Results !

RCB vs CSK Match Analysis: जानें कहां मैच हार गई चेन्नई सुपरकिंग्स

RCB vs CSK Match Analysis: जानें कहां मैच हार गई चेन्नई सुपरकिंग्स

बैंगलोर के खिलाफ चेन्नई की हार के पीछे सबसे बड़ा कारण धोनी और जडेजा का खराब प्रदर्शन रहा। ये दोनों दिग्गज इस मैच में कोई कमाल नहीं कर पाए और मुश्किल समय में अपनी टीम का साथ छोड़कर पवेलियन लौट गए।




आईपीएल 2022 में चेन्नई की टीम को सातवीं हार का सामना करना पड़ा है। इसके साथ ही इस टीम के प्लेऑफ में पहुंचने की उम्मीद लगभग खत्म हो गई है। चेन्नई अपने बाकी सभी मैच जीतकर भी अधिकतम 14 अंक हासिल कर पाएगी। ऐसे में चेन्नई प्लेऑफ में पहुंचने के लिए बाकी टीमों के नतीजों पर निर्भर रहेगी। 

बैंगलोर के खिलाफ मैच में चेन्नई जीत हासिल कर प्लेऑफ की उम्मीदें जिंदा रखने उतरी थी। धोनी की कप्तानी में चेन्नई से जीत की उम्मीद थी। इस सीजन दोनों टीमों के बीच पहली भिड़ंत में भी चेन्नई ने बैंगलोर को हराया था। ऐसे में उम्मीद थी कि एक बार फिर धोनी की टीम जीत हासिल करेगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। चेन्नई सुपरकिंग्स यह मैच 13 रन से हार गई। आइए जानते हैं कि चेन्नई की टीम ने इस मैच में क्या गलतियां की और कहां मैच हार गई।

मैच में टर्निंग प्वाइंट


1. इस मैच में विराट और डुप्लेसिस की जोड़ी ने चेन्नई को शानदार शुरुआत दिलाई थी। दोनों ने मिलकर पहले विकेट के लिए 62 रन जोड़े थे। इसके बाद आरसीबी ने 17 रन बनाने में डुप्लेसिस, मैक्सवेल और कोहली के  विकेट गंवा दिए। यहीं से बैंगलोर के बड़े स्कोर तक पहुंचने की उम्मीद कमजोर पड़ गई। 

2. आरसीबी के लिए युवा बल्लेबाजों ने कमाल दिखाया और लोमरोर ने 27 गेंद में 42 और रजत पाटीदार ने 21 रन बनाकर अपनी टीम को अच्छे स्कोर तक पहुंचाया। अंत में दिनेश कार्तिक 17 गेंद में 26 रन बनाकर बैंगलोर का स्कोर 173 तक ले गए। उन्होंने आखिरी ओवर में 16 रन जोड़े। 

3. लोमरोर और पाटीदार की अच्छी पारियों के बाद आरसीबी की टीम पटरी पर लौट आई थी और बड़े स्कोर की तरफ तेजी से बढ़ रही थी, लेकिन महीक्ष थीक्षाना ने 19वें ओवर में कमाल की गेंदबाजी की और बैंगलोर को बड़ा स्कोर बनाने से रोक दिया। उन्होंने 19वें ओवर में सिर्फ दो रन दिए और तीन बल्लेबाजों को पवेलियन भेजा। इसी वजह से बैंगलोर 180 से ज्यादा का स्कोर नहीं बना पाई।

4. पुणे के मैदान में 174 का लक्ष्य बहुत मुश्किल नहीं था। ऋतुराज और कॉन्वे ने पहले विकेट के लिए 54 रन जोड़कर अच्छी शुरुआत भी की थी, लेकिन बैंगलोर की तरह चेन्नई ने भी गुच्छे में विकेट गंवाए और 75 रन के स्कोर में टीम के तीन बल्लेबाज आउट हो चुके थे। यहीं से चेन्नई मैच में पिछड़ने लगी। 

5. मोईन अली ने कुछ अच्छे शॉट खेलकर चेन्नई को मैच में वापस ला दिया था, लेकिन जडेजा उनका साथ नहीं दे पाए। जडेजा ने पांच गेंदों में तीन रन बनाए। इसी वजह से चेन्नई के लिए अंत में लक्ष्य का पीछा करना असंभव के समान हो गया। इस सीजन जडेजा किसी मैच में अच्छी लय में नहीं दिखे हैं। 

6. चेन्नई की टीम को जीत के लिए आखिरी दो ओवरों में जीत के लिए 39 रन की जरूरत थी। कप्तान धोनी ऐसे हालातों में ही मैच जिताने के लिए जाने जाते हैं। यह लक्ष्य मुश्किल था, लेकिन हासिल किया जा सकता था। हालांकि, धोनी इस मैच में कोई कमाल नहीं कर सके और 19वें ओवर की पहली गेंद में ही पवेलियन लौट गए। इसके साथ ही चेन्नई की जीत की सारी उम्मीदें खत्म हो गईं।

दोनों कप्तानों का प्रदर्शन


इस मैच में फील्डिंग के दौरान दोनों कप्तानों ने शानदार कप्तानी की। पहली धोनी ने गेंदबाजी करते हुए मोईन अली का शानदार इस्तेमाल किया। अली ने बैंगलोर की सलामी जोड़ी को पवेलियन भेज अपनी टीम को बड़ी सफलता दिलाई। वहीं बाद में थीक्षना से 19वां ओवर कराया जो कि उनका मास्टर स्ट्रोक साबित हुआ। इसी वजह से बैंगलोर बड़ा स्कोर नहीं बना पाई। हालांकि, धोनी बल्ले से पूरी तरह फेल रहे और यही उनकी टीम की हार का कारण बना। 

डुप्लेसिस ने बल्ले से भी कमाल का प्रदर्शन किया और 22 गेंद में 38 रन बनाए। इसके बाद फील्डिंग के दौरान उन्होंने मैक्सवेल का शानदार उपयोग किया। चेन्नई का पहला विकेट गिरने के बाद उन्होंने मैक्सवेल से गेंदबाजी कराई और उन्होंने रायुडू-उथप्पा को आउट कर चेन्नई को पीछे ढकेल दिया। वहीं, सिराज महंगे साबित हुए तो डुप्लेसिस ने उनसे सिर्फ दो ओवर ही कराए, जबकि पार्ट टाइम गेंदबाज मैक्सवेल ने पूरे चार ओवर किए।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Below Post Ad